Monday, July 12, 2010

किसी भी वक्त घर से निकलना मेरा मानवाधिकार है

जानी-मानी फोटोजर्नलिस्ट सर्वेश ने अपने एक टीवी इंटरव्यू में जोरदार टिप्पणी की।

टीवी ऐंकर का आम-सा सवाल था कि एक महिला होने के नाते इस प्रोफेशन में कोई अड़चन नहीं आती जब उन्हें रात-बिरात अनजानी-अजीब सी जगहों पर भी कवरेज के लिए जाना पड़ता है?

इस पर सर्वेश ने कहा कि रात में भी अकेले काम पर निकलना पड़े तो डर उन्हें बिल्कुल नहीं लगता। सर्वेश के आगे के तर्क लाजवाब कर देने वाले थे- "यह डर वास्तव में समाज-परिवार जबर्दस्ती स्त्री के मन में भरता है। किसी भी वक्त घर जाना या घर से निकलना, कहीं भी जाना हर व्यक्ति का मानवाधिकार है। विना तकनीकी वजह के किसी के लिए ये पाबंदियां मजबूरी में या जबर्दस्ती सोची या लागू की जाती हैं तो यह उसके मानवाधिकार पर चोट है।"

“बलात्कारी के डर से घर से मत निकलो, ऐसा कहने की बजाए बलात्कारी को क्यों नहीं रोका जाता कि तुम बलात्कार न करो?!”


नेट से चुराई हुई सर्वेश की खींची एक तसवीर।



बाकी उनके ब्लॉग सर्वेश फोटोवाली पर पहुंचकर जाना जा सकता है कि उनका कैमरा कहां तक पहुंचा है।

Tuesday, July 6, 2010

धोनी की शादी के मायने

बिलकुल नयी सूचना है, धोनी ने रविवार को अपनी बचपन कि दोस्त साक्षी रावत से विवाह कर लिया। इसके पहले उनके ढेर सारे प्रेम प्रसंग चर्चा में रहे । मुख्य रूप से 'दीपिका पादुकोण' और हाल फिलहाल 'आसिन' से। हमेशा ही ऐसा लगता रहा कि धोनी किसी चर्चित चेहरे से ही विवाह करेंगे लेकिन हुआ इसके ठीक विपरीत। धोनी ने चुनी एक बिलकुल नामालूम सी लड़की। शायद - एक 'हाउस वाइफ'। क्यों? क्या यह फिर से एक बार पुरुषों की "हीन भावना" का मामला है?

प्रेम करने - या फिर कहें मस्ती मारने- तक ऐसी लड़की चलती है जो चर्चित हों। इससे उनकी अहंकार भावना तुष्ट होती रही कि देखो इतनी खूबसूरत और इतनी मशहूर, हज़ारो लाखों की स्वप्न सुंदरी मुझपर मर रही है। लेकिन जब विवाह करने का समय आया तो उन्हें एक घरेलू सी लड़की ही जंची। जिसे कोई नहीं जानता था। निश्चित रूप से किसी फिल्म अभिनेत्री कि अपेक्षा एक 'अनाघ्रात पुष्प' एक 'असूर्यपश्या'। स्पष्ट है कि आजकल किसी फिल्म अभिनेत्री के शरीर का अधिकांश हिस्सा नुमाया ही रहता है- तो मित्रों कि दबी हँसी का खतरा रहता - और मशहूर रहने के कारण भविष्य में थोड़ी बहुत बहुत टकराव की भी आशंका रहती। जाहिर है धोनी ने संभवतः दोनों ही आशकाओं से मुक्ति पा ली है॥