Tuesday, August 16, 2016

मूंछे, ब्रा और फेमिनिज्म

-  सुजाता 

क्या  बेहूदगी है !
-          सॉरी सर ! बस हँस ही तो रही हूँ ...

बकवास ! इस बहस को अभी , इसी वक़्त खत्म किया जाए ।

-          ओह , डाली से उलटी लटकी चिड़िया के पंख में छिपा कीड़ा आपकी नाक में घुस गया है
             छींक कर उसपर एहसान नहीं करेंगे साहब !
             कबूतर नोचते जो पंख फंसा है      
             खखार के थूकिये उसे ...धरा पावन हो जनाब !
             
            
खबरदार ! आगे एक शब्द नहीं  ...

         ठीक  मैं चुप सुनूंगी ।
-          इस परिवार में एक आप ही समझदार हैं
       सालों से जेब भी है आपकी पैण्ट में
       आप ही न्याय करें !                     
(फरियादी महिला की फरमायश पर ; तलवारी आवाज़ और मूँछीले तर्कों का सिलसिला ...ढैन ट टैन ...! )
                                                                                                    
                                                                                                     होती पुरुष तो शोक में बढा लेती मैं अपनी दाढी
                                                                                                     अभी तो वह खिचड़ी भी न होती
                                                                                                     पैक अप कब होगा
                                                                                                 मेरी नई कुर्ती की जेब में रखे चने खत्म हो गए तो
        देखना !                 
             जल्दी  क्या  है ! अभी तो एक गाना भी आएगा-  
             आज़ादी !
           - दो गुलामियों के बीच चयन की स्वतंत्रता
             दो औरतों के बीच तनी हुई रस्सी सा आदमी
             दो आदमियों के बीच लटकी अधमरी औरत
             तीन मुर्गे तीतर तीन
             दिल्ली मैक्लॉडगंज- दिल्ली !
             बिहार- यूपी कश्मीर !
             काला-सफ़ेद-रंगीन 
           
          

एक सिंदूरवान फेमिनिस्ट रोती है कलीग के कंधे पर
वह हँसता है शातिर , दाँत क्लोज़ अप में अगली बेस्ट सेलर आपकी होगी ...
सद्योन्मुक्ता !

दीवारों पर सखियाँ हैं , छ्प्पन इंच के सीने हैं पोस्टरों पर ,साथ में उनके खम्भे मुस्तैद , घिघियाए
एक सौ आठ में एक पोस्टर कम है

मेरी आँख चलेगी हुज़ूर ?
फोड़ लो , बहुत बोलती हैं ।
सर, जल्दी नाराज़ होते हैं कोई पानी पिलाओ
पॉर्न दिखाओ ... पॉलिटिक्स सुनाओ ...नहीं नहीं सिर्फ़ सुनो
                                                                                                     कभी नाव गाड़ी पर कभी गाड़ी नाव पर परफेक्ट!
                                                                                                                 ई ल्यो फोटू - रब ने बना दी जोड़ी टाइप   
मार धड़ाधड़ लाइक, फटाफट
शुक्रिया !
शुक्रिया !
शुक्रिया !
ओह ...मैडम
झुकते-झुकते गिरीं
उड़ते-उड़ते बिखर गईं ज़ुल्फें ...
कोई इतनी तारीफ न करे रब्बा ! बैक स्टेज गईं ...
ब्रा हटा के कोई बार-बार मूँछें टांग जाता है स्क्रीन पर , हटाओ यार !